Thursday, July 29, 2021

डंडे के दम पर कोरोना नहीं रुकेगा ‘सरकार’, उत्तराखंड में फिर आए 272 मामले

Must read

दो नेताओं के बीच घूमती बिहार की दलित राजनीति

संजीव पांडेय बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने खेमा बदल लिया है। इस साल प्रस्तावित बिहार...

अयोध्या जा रहे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में लिया

बाराबंकी। अयोध्या में किसानों से मिलने जा रहे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में ले...

त्रिवेंद्र की कोशिश पर पार्टी ने फेरा पानी

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अनिच्छा के बावजूद भाजपा संगठन ने जिस तरह से रुड़की के विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन...

कांग्रेस के असंतुष्टों की मंशा पर उठते सवालों के जवाब भी जरूरी हैं

बगावती तेवर में सता की लालसा है। सत्ता का वियोग है। जिन्हे निशाने पर लिया गया है वे भी लोकतांत्रिक नहीं हैं। जनता...

देहरादून। कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच उत्तराखंड में 7364 लोगों की जांच रिपोर्ट अभी लंबित है। राज्य में स्क्रीनिंग और मास टेस्टिंग न होने की वजह से स्थिति का सही अनुमान नहीं हो पा रहा है। इसी वजह से किसी दिन मामले तेजी से बढ़ रहे हैं और किसी दिन घट रहे हैं। हर जिले में आ रहे मामलों में भी एकरूपता नहीं हैं। राज्य सरकार यह मान रही है कि उत्तराखंड में बाहर से ही कोरोना आ रहा है, इसलिए बस सीमाओं पर कुछ सख्ती दिखती है, लेकिन सरकार के स्तर पर ऐहतियाती उपायों की भारी कमी है। आपदा के नाम पर अफसर और पुलिस राज तो हावी है, लेकिन कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग को लेकर लगभग नगण्य प्रयास हो रहे हैं। शुक्रवार को भी कोरोना के 272 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 42 लोग ठीक हुए हैं। सर्वाधिक 90 मामले ऊधमसिंह नगर से आए हैं। राज्य में रोज मिलने वाले संक्रमण के मामलों में बड़ी संख्या उनकी होती है, जिनकी यात्रा की जानकारी सरकार को मालूम ही नहीं होती। यानी ये वो लोगा होते हैं, जिनके बारे में बस पता चल जाता है। इससे साफ है कि सरकारी स्तर पर ट्रेसिंग के प्रयास कितने कमजोर हैं। क्वारेंटीन में रह रहे लोगों की तक सही से निगरानी नहीं होती है। यही वजह है कि राज्य में कोरोना काबू नहीं हो पा रहा है। कोरोना के दौर में भी वीवीआईपी के लिए खास व्यवस्था है। उन्हें क्वारेंटीन से भी छूट है। लेकिन यह वायरस समानतावादी है, जो राजा और रंक में कोई भेदभाव नहीं करता है। शुक्रवार को मिले 272 पॉजिटिव मामलों में भी 114 लोगों की ट्रैवल हिस्ट्री सरकार को मालूम ही नहीं है। उत्तराखंड सरकार इस बीमारी को डंडे के बल पर रोकना चाहती है, जबकि इस पर रोक सिर्फ वैज्ञानिक उपायों से ही लग सकती है।    

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

टिकैत के आंसू क्या राजनीति का टर्निंग प्वाइंट है?

नई दिल्ली। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत के आंसू आज बहस का विषय बन गए हैं। टिकैत रोए क्यों?...

नवम सतत् पर्वतीय विकास शिखर सम्मेलन का उद्घाटन

देहरादून। सतत् पर्वतीय विकास शिखर सम्मेलन के वर्चुचल उद्घाटन सत्र में शुक्रवार को  उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत मुख्य अतिथि एवं...

समीक्षा के बहाने ‘अपने मन की’ करने की तैयारी में त्रिवेंद्र

खराब प्रदर्शन के आधार पर नापसंद मंत्रियों को हटाएंगे और अपनी पसंद के नेताओं को सरकार में लाएंगे

पहले दौर में हुड्‌डा का दांव योगेश्वर दत्त पर भारी

चंडीगढ़। विधानसभा चुनाव के ठीक एक साल बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा आमने-सामने हैं। बरोदा...

हरियाणा की बेटी ने फतह की उत्तराखंड की सबसे ख़तरनाक चोटी रुदुगैरा

विश्व विख्यात पर्वतारोही अनीता कुंडू ने उत्तराखंड में स्थित रुदुगैरा को फतह कर लिया। उनका ये अभियान प्रधानमंत्री और खेल मंत्री...