Wednesday, December 2, 2020

चाचा-भतीजे की लड़ाई और बरोदा का उपचुनाव

Must read

दो नेताओं के बीच घूमती बिहार की दलित राजनीति

संजीव पांडेय बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने खेमा बदल लिया है। इस साल प्रस्तावित बिहार...

अयोध्या जा रहे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में लिया

बाराबंकी। अयोध्या में किसानों से मिलने जा रहे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में ले...

त्रिवेंद्र की कोशिश पर पार्टी ने फेरा पानी

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अनिच्छा के बावजूद भाजपा संगठन ने जिस तरह से रुड़की के विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन...

कांग्रेस के असंतुष्टों की मंशा पर उठते सवालों के जवाब भी जरूरी हैं

बगावती तेवर में सता की लालसा है। सत्ता का वियोग है। जिन्हे निशाने पर लिया गया है वे भी लोकतांत्रिक नहीं हैं। जनता...

चंडीगढ़। हरियाणा के रजिस्ट्री घोटाले में एक के बाद एक परतें उधड़ रही है। इसने विपक्ष को सरकार पर हमलावर होने का एक और मौका दे दिया है। शराब घोटाले के बाद यह दूसरा प्रकरण है जब सरकार की सहयोगी जेजेपी पर अंगुली उठी है। लेकिन सबसे अहम बात यह है कि इस घोटाले से चाचा-भतीजा की लड़ाई भी खुलकर सामने आ गई है। चाचा यानी अभय सिंह चौटाला और भतीजा यानी दुष्यंत चौटाला दोनों एक दूसरे को जरा भी पसंद नहीं करते हैं। चाचा के सपनों को रौंदकर राज्य में डिप्टी सीएम बने दुष्यंत बराबर अभय सिंह के आंखों की किरिकरी बने हुए हैं। अभय सिंह ने तो यहां तक कह दिया कि प्रदेश में जितने भी घोटाले हो रहे हैं, आखिर उनके तार एक ही मंत्री से क्यों जुड़ रहे हैं। असल में प्रदेश में जाटों की चौधर किसके पास है इसे लेकर ही लड़ाई चल रही है। 2014 के चुनाव से पहले ओमप्रकाश चौटाला राजनीतिक रूप से जाटों के सबसे बड़े नेता थे। जाट तो भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा भी हैं, लेकिन वे जाट नेता के रूप में उस तरह से नहीं जाने जाते। बड़े चौटाला और अजय सिंह चौटाला के जेल जाने के बाद से ही चौटाला परिवार में ओमप्रकाश चौटाला के राजनीतिक वारिस के लिए चल रही लड़ाई पिछले साल चुनाव से पहले खुलकर सामने आ गई थी। दुष्यंत ने चाचा को खुली चुनौती दे दी और नई पार्टी बना डाली। बड़े चौटाला के विरोध के बावजूद विधासभा चुनाव में भतीजा चाचा से आगे निकल गया और सरकार में हिस्सेदार बन गया। सरकार में हिस्सेदारी के बावजूद न तो जजपा और न ही दुष्यंत अभी वह स्थान हासिल कर सके हैं, जो उनके दादा ओमप्रकाश चौटाला या पड़दादा चौधरी देवीलाल को हासिल था।

दुष्यंत और उनके करीबी लोगों पर अब आरोप लगने से निश्चित ही जजपा की स्थिति कमजोर होगी। यही नहीं पार्टी के भीतर ही अपने लोगों की उपेक्षा के आरोप भी जजपा की मुश्किल बढ़ा सकती है। यही नहीं जिस भाजपा का विरोध करके जजपा आगे बढ़ी थी, वहीं भाजपा अब उसकी सहयोगी है। इन दोनों की दोस्ती की पहली परीक्षा बरोदा उपचुनाव में होने जा रही है। जाट बहुल इस सीट के परिणाम से यह तो साबित नहीं होगा कि हरियाणा में जाटों का नेता कौन है, लेकिन इस सीट पर भाजपा-जजपा की हार हुई तो इसका प्रभाव सरकार पर भी पड़ सकता है। वहीं अभय सिंह की कोशिश है किसी तरह से वह इस चुनाव में इनेलो की ताकत को दिखा दें। क्योंकि विधानसभा की करारी हार के सदमे से इनेलो अभी उबर नहीं सकी है।      

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

समीक्षा के बहाने ‘अपने मन की’ करने की तैयारी में त्रिवेंद्र

खराब प्रदर्शन के आधार पर नापसंद मंत्रियों को हटाएंगे और अपनी पसंद के नेताओं को सरकार में लाएंगे

पहले दौर में हुड्‌डा का दांव योगेश्वर दत्त पर भारी

चंडीगढ़। विधानसभा चुनाव के ठीक एक साल बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा आमने-सामने हैं। बरोदा...

हरियाणा की बेटी ने फतह की उत्तराखंड की सबसे ख़तरनाक चोटी रुदुगैरा

विश्व विख्यात पर्वतारोही अनीता कुंडू ने उत्तराखंड में स्थित रुदुगैरा को फतह कर लिया। उनका ये अभियान प्रधानमंत्री और खेल मंत्री...

हाथरस से निकल सकता है कांग्रेस के लिए लखनऊ का रास्ता

लखनऊ। हाथरस कांड कांग्रेस उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को पुनर्जीवन देने के लिए बड़ा मुद्दा बन सकता है, खासकर सपा और...

एशियाई लीडरों की तरह ट्रंप भी कर रहे है इनकम टैक्स की चोरी?

संजीव पांडेय अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लैटिन अमेरिकी और एशियाई लीडरों की कतार में शामिल हो रहे हैं।...