Tuesday, December 1, 2020

क्या कलराज मिश्र भी रोमेश भंडारी क्लब के मेंबर बन गए?

Must read

दो नेताओं के बीच घूमती बिहार की दलित राजनीति

संजीव पांडेय बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने खेमा बदल लिया है। इस साल प्रस्तावित बिहार...

अयोध्या जा रहे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में लिया

बाराबंकी। अयोध्या में किसानों से मिलने जा रहे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में ले...

त्रिवेंद्र की कोशिश पर पार्टी ने फेरा पानी

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अनिच्छा के बावजूद भाजपा संगठन ने जिस तरह से रुड़की के विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन...

कांग्रेस के असंतुष्टों की मंशा पर उठते सवालों के जवाब भी जरूरी हैं

बगावती तेवर में सता की लालसा है। सत्ता का वियोग है। जिन्हे निशाने पर लिया गया है वे भी लोकतांत्रिक नहीं हैं। जनता...

संजीव पांडेय

काफी हंगामे के बाद राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने राजस्थान विधानसभा का सत्र बुलाने की मंजूरी दे दी है। लेकिन इससे पहले का घटनाक्रम देश की संवैधानिक संस्थाओं के क्षरण का संकेत देती है। बरबस स्वर्गीय रोमेश भंडारी याद आ जाते है। फरवरी 1998 की बात है। उतर प्रदेश में भाजपा की राज्य सरकार थी। कल्याण सिंह मुख्यमंत्री थे। एकाएक खबर आई कि कल्याण सिंह की चुनी हुई सरकार को उतर प्रदेश के तत्कालीन गवर्नर रोमेश भंडारी ने बरखास्त कर दिया है। कल्याण सिंह की जगह जगदंबिका पाल को मुख्यमंत्री बना दिया गया। वही जगदंबिका पाल जो इस समय भाजपा में है। सरकार की बरखास्तगी के खिलाफ भाजपा ने राष्ट्रीय स्तर पर हंगामा खड़ा कर दिया, लोकतंत्र की दुहाई दी, आंदोलन शुरू कर दिया। एकाएक रोमेश भंडारी खलनायक बन गए। खैर उन्होंने वो काम किया था जिसकी अनुमति भारतीय संविधान कतई नहीं देता है। भाजपा उस समय पूरी तरह से संविधान प्रदत शासन के समर्थन में थी। इसलिए अटल बिहारी वाजपेयी ने संविधान और लोकतंत्र को बचाए रखने के लिए कल्याण सिंह सरकार की बरखास्तगी के खिलाफ भूख हड़ताल शुरू कर दी। इस बीच इलाहाबाद हाईकोर्ट ने हस्तक्षेप किया और रोमेश भंडारी के फैसले को गलत ठहराया। लोकतंत्र  की जीत हो गई थी। अटल बिहारी वाजपेयी ने भूख हडताल तोड़ दी। रोमेश भंडारी स्वतंत्र भारत के इतिहास में बदनाम राज्यपाल की सूची में नंबर-1 पर आते है। केंद्र के इशारे पर राज्यों की सरकारों को परेशान करने में उन्हें महारत हासिल थी।

शायद वर्तमान पीढ़ी को रोमेश भंडारी के बारे में ज्यादा जानकारी न हो। लेकिन एकबारगी राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र की भूमिका की चर्चा हो रही तो बरबस  रोमेश भंडारी याद आ रहे है। वर्तमान पीढ़ी शायद अब रोमेश भंडारी को भी पढ़ेगी। रोमेश भंडारी को पढ़ेगी तो उन्हें पता चलेगा कि भाजपा ने किसी जमाने में देश में लोकतंत्र और संविधान को बचाने के लिए सड़क पर उतर कर संघर्ष किया था। फिर जब रोमेश भंडारी की तुलना वर्तमान राजनीतिक हालातों से की जाएगी तो वर्तमान पीढी सोचेगी कि भाजपा में कितना बदलाव आ गया है, जो लोकतंत्र और संविधान से उपर जाकर सत्ता प्राप्त करने के लिए राज्यपाल के पद का दुरुपयोग कर रही है। कलराज मिश्र की चर्चा इसलिए भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाती है कि कलराज मिश्र उतर प्रदेश की राजनीति में कल्याण सिंह के करीबी सहयोगी रहे है। हालांकि, भाजपा की अंदरूनी  राजनीति में कल्याण सिंह से उनकी कभी नहीं बनी।

कलराज मिश्र ने तो रोमेश भंडारी को कहीं बहुत पीछे छोड़ दिया है। उन्होंने तो वो कर दिया जो आजाद भारत के इतिहास में शायद ही किसी राज्यपाल ने किया हो। 70 साल के इतिहास में पहली बार किसी राज्यपाल ने विधानसभा सत्र बुलाने संबंधी कैबिनेट की सलाह नहीं मानी है। जबकि राज्यपाल कैबिनेट की सलाह मानने को बाध्य है। सुप्रीम कोर्ट का फैसला अरुणाचल प्रदेश के एक मामले में आ चुका है। 2015 में अरुणाचल प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री नबाम तुकी ने 14 जनवरी 2016 को विधानसभा सत्र बुलाने के लिए राज्यपाल को सिफारिश भेजी थी। लेकिन, राज्य के राज्यपाल कुछ ज्यादा ही तेजी में थे। उन्होंने 14 जनवरी 2016 के बजाए 16 दिसंबर 2015 को विधानसभा का सत्र बुला लिया। इससे एक संकट पैदा हो गया। तुकी ने इसके विरोध में विधानसभा भवन पर ताला जड़ दिया। मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा। सुप्रीम कोर्ट ने फैसला दिया कि मुख्यमंत्री की अनुसंशा के बगैर सत्र बुलाना असंवैधानिक है। राजस्थान का मामला तो और दिलचस्प है। राज्यपाल तो संविधान के अनुच्छेद 174 को ही मानने को तैयार नहीं है। संविधान का अनुच्छेद 174 साफ शब्दों में कहता है कि राज्य कैबिनेट की अनुसंशा पर राज्यपाल सत्र बुलाएंगे। राज्यपाल की शक्तियां सत्र बुलाने के मामले में सिर्फ सुझावी है। अगर राज्यपाल अपनी मर्जी से सत्र बुलाने संबंधी कैबिनेट के फैसले नही मानेंगे तो कई राज्यो में अव्यवस्था आ सकती है। फर्ज करें अगर इसी तरह केंद्रीय कैबिनेट के सत्र बुलाने संबंधी फैसले को राष्ट्रपति न माने तो क्या होगा ?

राजस्थान में राज्यपाल की भूमिका से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खासे नाराज हैं। मुख्यमंत्री गहलौत विधायकों के साथ राजभवन पहुंच गए। धरना दे दिया। धरना देने के कारण वे भाजपा के निशाने पर है। भाजपा ने राजभवन में धरने की आलोचना की है। आरोप लगाया कि राज्यपाल को धरना देकर धमकाया जा रहा है। उधऱ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भाजपा नेताओं को उनके पुराने आंदोलनों की याद दिला रहे है। राजस्थान में गर्वनर रहे बलिराम भगत का कार्यकाल भाजपा नेताओं को गहलोत याद दिलवा रहे है। उनके कार्यकाल के दौरान तत्कालीन मुख्यमंत्री भैरो सिंह शेखावत ने राजभवन में धरना दिया था। निश्चित तौर पर गहलौत का दायित्व है कि वे भाजपा के नेताओं को उनके लोकतांत्रिक आंदोलनों की याद दिलाए। भाजपा नेताओं को रोमेश भंडारी का कार्यकाल भी याद दिलाए। कल्याण सिंह जो भंडारी के संविधान विरोधी कार्य के शिकार थे वे राजस्थान के गर्वनर रह चुके है।  

राज्यपाल की शक्तियों के दुरूपयोग की सारी सीमाएं एनडीए के शासनकाल में टूट गई है। नवंबर 2019 में महाराष्ट्र में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने रातो-रात भाजपा के देवेंद्र फड़नवीस को मुख्यमंत्री बनाने का फैसला लिया। सुबह देवेद्र फड़नवीस को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलवा दी। 2018 में कर्नाटक में बहुमत न होने के बावजूद भाजपा के येदयुरप्पा को मुख्यमंत्री की शपथ दिलवायी गई। इसमें राज्यपाल वजु भाई वाला की दिलचस्प भूमिका थी। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद जनता दल सेक्यूलर और कांग्रेस के बीच गठबंधन की सरकार बनाने पर सहमति बन गई थी। दोनों दलों ने बहुमत के लिए जरूरी विधायकों की सूची भी राज्यपाल को सौंप दी थी। इसके बावजूद राज्यपाल ने विधानसभा में सबसे बड़े दल भाजपा के नेता यदयुरप्पा को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलायी। यदयुरप्पा बहुमत सिद करने में विफल हो गए। क्योंकि वे जरूरी विधायक नही जुटा पाए। बहुमत सिद करने के लिए उन्हें कम समय मिला। बहुमत सिद करने से पहले ही विधानसभा में यदुयरप्पा ने भावुक भाषण देने के बाद इस्तीफा दे दिया।

हालांकि राज्यपाल के पद का दुरुपयोग का मामला अब सामान्य बात हो गई है। तभी आज राज्यपाल के आचरण पर बहुत ज्यादा बहस नहीं हो रही है। इसे सामान्य आचरण माना जा रहा है। भाजपा कांग्रेस के कार्यकाल में संविधान के चीरहरण को लेकर आंदोलन करती थी। अब कांग्रेस सरकारों की कार्यशैली को तेजी से आगे बढ़ा रही है। अब यही मानकर चला जा रहा है कि राज्यपाल की नियुक्ति संविधान के पालन के लिए नहीं, केंद्र सरकार के आदेशों को मानने के लिए होती है। वैसे में इस मुद्दे पर बहस कर समय क्यों खराब किया जाए ? हालांकि इस स्थिति के लिए जिम्मेवार कांग्रेस कम नहीं है। संवैधानिक संस्थाओं को भारी नुकसान कांग्रेस के कार्यकाल में पहुंचाया गया। भाजपा के कार्यकाल में बस संवैधानिक संस्थाओं को नुकसान पहुंचाने की गति तेज कर दी गई है। कांग्रेस के जमाने में राज्यपाल राष्ट्रपति शासन लगाने के काम आते थे। अब राज्यपाल एक चुनी हुई सरकार को गिराकर, दूसरी चुनी हुई सरकार को बनवाने में काम आते है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

समीक्षा के बहाने ‘अपने मन की’ करने की तैयारी में त्रिवेंद्र

खराब प्रदर्शन के आधार पर नापसंद मंत्रियों को हटाएंगे और अपनी पसंद के नेताओं को सरकार में लाएंगे

पहले दौर में हुड्‌डा का दांव योगेश्वर दत्त पर भारी

चंडीगढ़। विधानसभा चुनाव के ठीक एक साल बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा आमने-सामने हैं। बरोदा...

हरियाणा की बेटी ने फतह की उत्तराखंड की सबसे ख़तरनाक चोटी रुदुगैरा

विश्व विख्यात पर्वतारोही अनीता कुंडू ने उत्तराखंड में स्थित रुदुगैरा को फतह कर लिया। उनका ये अभियान प्रधानमंत्री और खेल मंत्री...

हाथरस से निकल सकता है कांग्रेस के लिए लखनऊ का रास्ता

लखनऊ। हाथरस कांड कांग्रेस उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को पुनर्जीवन देने के लिए बड़ा मुद्दा बन सकता है, खासकर सपा और...

एशियाई लीडरों की तरह ट्रंप भी कर रहे है इनकम टैक्स की चोरी?

संजीव पांडेय अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लैटिन अमेरिकी और एशियाई लीडरों की कतार में शामिल हो रहे हैं।...