Saturday, February 27, 2021

भाई साहब घर पर ही रहें, क्योंकि अब कोरोना को नेतागिरी की लत लग गई है और नेता तो हर प्रतिबंध से मुक्त हैं

Must read

दो नेताओं के बीच घूमती बिहार की दलित राजनीति

संजीव पांडेय बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने खेमा बदल लिया है। इस साल प्रस्तावित बिहार...

अयोध्या जा रहे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में लिया

बाराबंकी। अयोध्या में किसानों से मिलने जा रहे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में ले...

त्रिवेंद्र की कोशिश पर पार्टी ने फेरा पानी

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अनिच्छा के बावजूद भाजपा संगठन ने जिस तरह से रुड़की के विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन...

कांग्रेस के असंतुष्टों की मंशा पर उठते सवालों के जवाब भी जरूरी हैं

बगावती तेवर में सता की लालसा है। सत्ता का वियोग है। जिन्हे निशाने पर लिया गया है वे भी लोकतांत्रिक नहीं हैं। जनता...

विशेष संवाददाता

अगर आप आम आदमी हैं तो आपको उत्तराखंड नहीं आना चाहिए, क्योंकि यहां पर नेता खुले आम घूम रहे हैं। आपको उत्तराखंड आने पर क्वारेंटीन सहित कई तरह की पाबंदियां झेलनी पड़ सकती हैं। आपके पास कोविड निगेटिव सर्टीफिकेट हो तो भी कोई पुलिस वाला आपको रोक सकता है, लेकिन किसी मंत्री, विधायक, जज या ऑफिसर पर कोई पाबंदी नहीं है। अब आप सोच रहे होंगे कि हम आपको देहरादून आने से मना क्यों कर रहे हैं। भाई साहब आप देख नहीं रहे हैं कि नेता सुपर स्प्रैडर बन चुके हैं। अब कोरोना को नेतागिरी भा गई है और एक के बाद एक नेता कोरोना के शिकार हो रहे हैं। हर नेता दर्जनों नेताओं को संक्रमित कर रहा है, सोचो यह चेन कितनी लंबी हो गई होगी। डर इसलिए है कि इसके बावजूद इनके खुलेआम घूमने पर कोई रोक नहीं है।

आप कहेंगे भाई नेता तो जनसेवक हैं। किसी भी गलतफहमी में न रहें और खुद को घर के भीतर बंद कर लें, जैसे किसी लॉयन सफारी में शेर खुलेआम घूमते हैं और आप पिंजरे के भीतर होते हैं। वही हाल है। हमारे वोट से शेर बने नेता तो पहले ही कम खतरनाक नहीं थे, लेकिन कोरोना चढ़ने से उनकी स्थिति करेला और नीम चढ़ा जैसी हो गई है। अमित शाह को कोरोना हुआ तो वे एक निजी अस्पताल में भर्ती हो गए। निश्चित ही इस अस्पताल के कई और प्रमुख डॉक्टर इस खास मरीज की देखभाल में होंगे, लेकिन वीवीआईपी के लिए यही काफी नहीं थे। एम्स से भी डॉक्टरों की टीम उनकी देखाभाल में है। अब आप बताओ कि अगर एक के बाद एक नेता इसी तरह अस्पतालों में भर्ती होते रहे तो न आपको अस्पतालों में जगह मिलेगी और न ही आपको डॉक्टर मिलेंगे। आपको बस भगवान का ही सहारा रह जाएगा। जिस उत्तराखंड में नेता सभी नियम कानूनों से मुक्त हों, वहां पर वे कितनी तेजी से कोरोना फैलाएंगे कि आप अंदाज भी नहीं लगा सकते। बेहतर है कि आप तो घर के भीतर ही रहें। कोई नेता दिख जाए तो एक चादर अपने पास रखें और उससे पूरी तरह खुद को लपेट लें, क्योंकि जंगल में शेर भले ही आपको न देख रहा हो, लेकिन अगर आपको शेर दिख जाता है तो आप भागकर अपनी जान बचाते हैं। लोकशाही के ये नए सामंत खुद को ऐसा ही शेर समझते हैं और आपकी हैसियत चुनाव तक इनके किसी चाकर जैसी ही है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

टिकैत के आंसू क्या राजनीति का टर्निंग प्वाइंट है?

नई दिल्ली। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत के आंसू आज बहस का विषय बन गए हैं। टिकैत रोए क्यों?...

नवम सतत् पर्वतीय विकास शिखर सम्मेलन का उद्घाटन

देहरादून। सतत् पर्वतीय विकास शिखर सम्मेलन के वर्चुचल उद्घाटन सत्र में शुक्रवार को  उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत मुख्य अतिथि एवं...

समीक्षा के बहाने ‘अपने मन की’ करने की तैयारी में त्रिवेंद्र

खराब प्रदर्शन के आधार पर नापसंद मंत्रियों को हटाएंगे और अपनी पसंद के नेताओं को सरकार में लाएंगे

पहले दौर में हुड्‌डा का दांव योगेश्वर दत्त पर भारी

चंडीगढ़। विधानसभा चुनाव के ठीक एक साल बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा आमने-सामने हैं। बरोदा...

हरियाणा की बेटी ने फतह की उत्तराखंड की सबसे ख़तरनाक चोटी रुदुगैरा

विश्व विख्यात पर्वतारोही अनीता कुंडू ने उत्तराखंड में स्थित रुदुगैरा को फतह कर लिया। उनका ये अभियान प्रधानमंत्री और खेल मंत्री...