Tuesday, December 1, 2020

कोरोना से निपटने में भारत विकसित देशों से आगे पर नेपाल, श्रीलंका, बांग्लादेश,पाकिस्तान से क्यों पिछड़ा?

Must read

दो नेताओं के बीच घूमती बिहार की दलित राजनीति

संजीव पांडेय बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने खेमा बदल लिया है। इस साल प्रस्तावित बिहार...

अयोध्या जा रहे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में लिया

बाराबंकी। अयोध्या में किसानों से मिलने जा रहे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में ले...

त्रिवेंद्र की कोशिश पर पार्टी ने फेरा पानी

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अनिच्छा के बावजूद भाजपा संगठन ने जिस तरह से रुड़की के विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन...

कांग्रेस के असंतुष्टों की मंशा पर उठते सवालों के जवाब भी जरूरी हैं

बगावती तेवर में सता की लालसा है। सत्ता का वियोग है। जिन्हे निशाने पर लिया गया है वे भी लोकतांत्रिक नहीं हैं। जनता...

कम संसाधन। भारत की तरह सख्त लॉकडाउन नहीं। इसके बावजूद भारत से ज्यादा अच्छे तरीके से कोरोना से निपटने में लगे हैं। जी हां बात सार्क के कुछ सदस्य देशों की हो रही है। बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल और पाकिस्तान जैसे देश कम संसाधन होने के बावजूद अभी तक कोरोना से निपटने में भारत से बेहतर साबित हुए है। भारत में सख्त लॉकडाउन कर कोरोना की चेन तोड़ने की बात की गई थी। लोगों ने सख्त लॉकडाउन की तमाम पीड़ाएं भी झेली। लेकिन कोरोना का चेन नहीं टूटा। संजीव पांडेय

सरकार बेशक न माने, लेकिन कोरोना का कम्युनिटी ट्रांसमिशन भारत में हो रहा है। भारत में रोगी 20 लाख पार कर गए। भारत से आगे अब मरीजों की संख्या के मामले में अमेरिका और ब्राजील रह गया है। कोविड-19 से हुई कुल हुई मौतों के मामले में भारत से आगे ब्रिटेन, मेक्सिको, अमेरिका, ब्राजील ही है। कोरोना को लेकर तमाम दावे ने सरकार ने किए थे। वे सिर्फ दावे दिखे, जमीन पर उसके परिणाम नहीं आए। अहमदाबाद के एक अस्पताल में आग लगने से कोरोना मरीजों की हुई मौतों ने साबित किया है कि इस देश में निजी स्वास्थ्य सेवाएं किस हदतक लापरवाही करती है। पर आश्चर्यजनक यह है कि दुनिया की छठी बड़ी अर्थव्यवस्था भारत से ज्यादा बेहतर तरीके से बांग्लादेश, श्रीलंका, पाकिस्तान और नेपाल ने कोरोना से निपटा है। मिली है कि भारत में विकसित देशों के मुकाबले कोविड-19 के कारण होने वाली मौतों की दर कम है। अगर 7 अगस्त के आंकड़ों को देखे तो भारत में कोविड-19 के कारण होने वाली मृत्युदर 2.10 प्रतिशत है। लेकिन मौतों के दर के मामले मे भारत से बेहतर प्रदर्शन श्रीलंका, नेपाल और बांग्लादेश ने किया है। वहीं पाकिस्तान और भारत में मौतों की दर लगभग बराबर है। लेकिन पाकिस्तान ने रिकवरी रेट में भारत को मात दे दी है। पाकिस्तान में कोविड-19 से होने वाली मृत्यु दर 2.14 प्रतिशत है। वहीं नेपाल में कोविड-19 की मृत्यु दर 0.29 प्रतिशत है। बांग्लादेश भी कोविड से होने वाली मौतों को काफी हद तक नियंत्रित किया है। बांग्लादेश में कोविड-19 की मृत्यु दर 1.32 प्रतिशत है। श्रीलंका में तो कोविड-19 से होने वाली मृत्यु दर 0.38 प्रतिशत है।

भारत के मुकाबले कम संसाधन और कमजोर अर्थव्यवस्था होने के बावजूद भारत के पड़ोसी मुल्कों ने कोविड-19 के मरीजों को ठीक करने में अच्छी सफलता हासिल की है। वैसे में भारत में भी मरीजों का रिकवरी रेट अच्छा है। भारत में मरीजों की रिकवरी रेट 68 प्रतिशत है। लेकिन पाकिस्तान में कोविड-19 के मरीजों की रिकवरी रेट 90 प्रतिशत है। बांग्लादेश में रिकवरी रेट 57 प्रतिशत है। श्रीलंका में रिकवरी 90 प्रतिशत है। नेपाल में रिकवरी रेट 70 प्रतिशत है। कोविड-19 के कारण भारत में जहां प्रति दस लाख पर 30 लोगों की मौत हुई है, वहीं पाकिस्तान में प्रति दस लाख पर 27 लोगों की मौत हुई है। बांग्लादेश में प्रति दस लाख पर 20 लोगों की मौत हुई है। श्रीलंका में प्रति दस लाख पर 0.5 मौत हुई है। वहीं नेपाल में प्रति दस लाख पर 2 मौतें हुई है।  

सार्क के दूसरे सदस्य देशों ने भारत से बेहतर प्रदर्शन किया है। हम सिर्फ यही संतोष कर सकते है कि भारत में पश्चिमी देशों के मुकाबले मृत्यु दर काफी कम है। भारत में कोविड-19 से मृत्यु दर अगर 2.10 प्रतिशत है, तो अमेरिका में 3.23 प्रतिशत है। ब्रिटेन में कोविड -19 से मृत्यु दर 15 प्रतिशत है तो इटली में 14 प्रतिशत है। फ्रांस में कोविड-19 से होने वाली मौतों की दर 15 प्रतिशत है। जिन देशों में कोविड-19 से होने वाली मौतों की दर काफी ज्यादा है, वे दुनिया के विकसित देश है। यहां की स्वास्थ्य व्यवस्था काफी अच्छी है। यहां स्वास्थ्य सेवाओं पर काफी पैसा खर्च होता है। लेकिन यह भी सवाल है कि क्या भारत में मृत्यु दर विकसित देशों के मुकाबले कम होने की मुख्य वजह सरकार की तैयारी है, या लोगों की खुद की इम्युनिटी ?

भारत ने मार्च के अंतिम सप्ताह में सख्त लॉकडाउन  की शुरूआत की थी। उसी समय पाकिस्तान ने साफ कह दिया था कि पाकिस्तान सख्त लॉकडाउन कतई नहीं करेगा। क्योंकि पाकिस्तान की इकनॉमी सख्त लॉकडाआउन की अनुमति नहीं देती है। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने साफ कहा था कि अगर सख्त लॉकडाउन किया गया तो पाकिस्तान में भूख से मौंतें होंगी। उधर श्रीलंका कोरोना से सफलतापूर्वक लड़ रहा है। वहीं 5 अगस्त को श्रीलंका में आम चुनाव भी हो गए। भारत के चुनाव आयोग को श्रीलंका के चुनाव आयोग से कुछ सीखना चाहिए। क्योंकि बिहार में विधानसभा चुनाव होने वाले है। इसे टालने की मांग हो रही है। श्रीलंका में खासी संख्या में लोगों ने निकलकर वोटिंग की। कोरोना में श्रीलंका के चुनाव आयोग ने किस तरह की तैयारी चुनाव करवाने के लिए की ये भारतीय चुनाव आयोग को देखना चाहिए। भारत में अभी भी कोरोना से जूझ रहे कई राज्य लोकल लॉकडाउन कर रहे है। वैसे भारत में कोविड-19 का भय लोगों में खत्म हो चुका है। लेकिन अब लोगों को भविष्य की चिंता सता रही है। सख्त लॉक डाउन ने लोगों की परेशानियां बढ़ा दी है। अर्थव्यवस्था की हालत पतली है। चीन, अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, फ्रांस समेत कई देशों ने बड़े-ब़ड़े आर्थिक पैकेज देकर अपनी जनता को काफी हद तक राहत दी है। भारत ने आर्थिक पैकेज का एलान किया। लेकिन अभी तक इस पैकेज का बड़ा हिस्सा बैंकों से मिलने वाला कर्ज ही है, जो निवेश के लिए है। यह बाजार में खर्च को नहीं बढाएगा। सरकार ने गरीबों को दिए जाने वाले पैकेज में मनरेगा की खर्च राशि में बढोतरी की है। वहीं मुफ्त और सस्ता अनाज को भी पैकेज में शामिल किया गया है। लोगों को भूख से मरने से बचाने के लिए यह जरूरी है। भारत की बड़ी आबादी के पास फिलहाल खर्च करने की ताकत कम हो गई है, क्योंकि करोड़ों लोगों के रोजगार खत्म हो गए है। भारत में सरकार चीन, अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, फ्रांस की तरह आम लोगों को खर्च के लिए सीधे धनराशि देने से बच रही है। संसाधनों की कमी, गरीबी इन मुल्कों की मुख्य विशेषता है। लेकिन इन देशों में कोविड-19 से होने वाली मौतों और रिकवरी रेटों को देखे तो ये देश भारत से बेहतर प्रदर्शन करते दिख रहे हैं। (ये लेखक के अपने विचार हैं)

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

समीक्षा के बहाने ‘अपने मन की’ करने की तैयारी में त्रिवेंद्र

खराब प्रदर्शन के आधार पर नापसंद मंत्रियों को हटाएंगे और अपनी पसंद के नेताओं को सरकार में लाएंगे

पहले दौर में हुड्‌डा का दांव योगेश्वर दत्त पर भारी

चंडीगढ़। विधानसभा चुनाव के ठीक एक साल बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा आमने-सामने हैं। बरोदा...

हरियाणा की बेटी ने फतह की उत्तराखंड की सबसे ख़तरनाक चोटी रुदुगैरा

विश्व विख्यात पर्वतारोही अनीता कुंडू ने उत्तराखंड में स्थित रुदुगैरा को फतह कर लिया। उनका ये अभियान प्रधानमंत्री और खेल मंत्री...

हाथरस से निकल सकता है कांग्रेस के लिए लखनऊ का रास्ता

लखनऊ। हाथरस कांड कांग्रेस उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को पुनर्जीवन देने के लिए बड़ा मुद्दा बन सकता है, खासकर सपा और...

एशियाई लीडरों की तरह ट्रंप भी कर रहे है इनकम टैक्स की चोरी?

संजीव पांडेय अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लैटिन अमेरिकी और एशियाई लीडरों की कतार में शामिल हो रहे हैं।...