Thursday, July 29, 2021

‘तमंचे पर डिस्को’ करने वाले चैंपियन की भाजपा में वापसी

Must read

दो नेताओं के बीच घूमती बिहार की दलित राजनीति

संजीव पांडेय बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने खेमा बदल लिया है। इस साल प्रस्तावित बिहार...

अयोध्या जा रहे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में लिया

बाराबंकी। अयोध्या में किसानों से मिलने जा रहे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में ले...

त्रिवेंद्र की कोशिश पर पार्टी ने फेरा पानी

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अनिच्छा के बावजूद भाजपा संगठन ने जिस तरह से रुड़की के विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन...

कांग्रेस के असंतुष्टों की मंशा पर उठते सवालों के जवाब भी जरूरी हैं

बगावती तेवर में सता की लालसा है। सत्ता का वियोग है। जिन्हे निशाने पर लिया गया है वे भी लोकतांत्रिक नहीं हैं। जनता...

देहरादून। कांग्रेस से भाजपा में आए और बंदूकें लेकर डांस करने व कुछ आपत्तिजनक टिप्पणियों के बाद भाजपा से बाहर हुए रुड़की के विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन तेरह महीने के बाद वापस भाजपा में आ गए हैं। उनको जिस तरह से बाहर किया गया था, उसके बाद ऐसा लग रहा था कि पार्टी विद् डिफरेंस का डिफरेंशिएटर अभी बचा हुआ है। लेकिन अब जिस तरह से चैंपियन की वापसी हुई है उसने दिखा दिया है कि कोई डिफरेंस बाकी नहीं है। राजनीति के हमाम में सब नंगे हैं। अब बात करते हैं द्वारहाट के विधायक महेश नेगी की। दुराचार के आरोप झेल रहे नेगी ने भी प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बंशीधर भगत को कह दिया है कि वह निर्दोष हैं और उन्हें कांग्रेस के कुछ नेता फंसाने की कोशिश कर रहे हैं। नेगी लाख कहें कि उन्होंने कुछ भी नहीं किया, लेकिन यह साबित तभी होगा, जब आरोप लगाने वाली महिला की बेटी का डीएनए उनसे मैच नहीं हो। इसके लिए नेगी की डीएनए जांच जरूरी है, लेकिन नेगी फिलहाल इसके लिए तैयार नहीं हैं और यही वजह है कि नेगी के तर्क जनता के गले नहीं उतर रहे हैं।

भाजपा के नेता नेगी का मामला सामने आने के बाद लगातार उत्तराखंड के अन्य नेताओं के सेक्स स्कैंडलों की चर्चा करने लगते हैं। यहां तक कि वे नेगी के कदम को सही ठहराने के लिए यह भी कहते हैं कि राज्य के बड़े नेता तो पहले से ही दो पत्नियां रखते रहे हैं। कई बार तो वे अपनी पार्टी के दागी नेताओं का नाम लेकर नेगी का बचाव करते हैं। सवाल यही है कि भाजपा के नेताओं के इस हौसले की बड़ी वजह मतदाताओं द्वारा दागियों को सबक न सिखाना है। जब तक मतदाता दागियों को विधानसभा व लोकसभा में भेजता रहेगा, व्यभिचार का सिलसिला रुकने वाला नहीं है। कहीं ऐसा न हो कि अवैध संबंध राज्य का नया नॉर्मल न बन जाए। ऐसा भी नहीं है कि भाजपा में ऐसे नेताओं का विरोध करने वाले नहीं हैं। राज्यसभा सांसद व पूर्व में पत्रकार रह चुके अनिल बलूनी चैंपियन की वापसी का विरोध कर चुके हैं।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

टिकैत के आंसू क्या राजनीति का टर्निंग प्वाइंट है?

नई दिल्ली। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत के आंसू आज बहस का विषय बन गए हैं। टिकैत रोए क्यों?...

नवम सतत् पर्वतीय विकास शिखर सम्मेलन का उद्घाटन

देहरादून। सतत् पर्वतीय विकास शिखर सम्मेलन के वर्चुचल उद्घाटन सत्र में शुक्रवार को  उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत मुख्य अतिथि एवं...

समीक्षा के बहाने ‘अपने मन की’ करने की तैयारी में त्रिवेंद्र

खराब प्रदर्शन के आधार पर नापसंद मंत्रियों को हटाएंगे और अपनी पसंद के नेताओं को सरकार में लाएंगे

पहले दौर में हुड्‌डा का दांव योगेश्वर दत्त पर भारी

चंडीगढ़। विधानसभा चुनाव के ठीक एक साल बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा आमने-सामने हैं। बरोदा...

हरियाणा की बेटी ने फतह की उत्तराखंड की सबसे ख़तरनाक चोटी रुदुगैरा

विश्व विख्यात पर्वतारोही अनीता कुंडू ने उत्तराखंड में स्थित रुदुगैरा को फतह कर लिया। उनका ये अभियान प्रधानमंत्री और खेल मंत्री...