Tuesday, December 1, 2020

राहुल के बयान पर बिफरे सिब्बल और गुलाम नबी, फिलहाल टली नए अध्यक्ष की नियुक्ति

Must read

दो नेताओं के बीच घूमती बिहार की दलित राजनीति

संजीव पांडेय बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने खेमा बदल लिया है। इस साल प्रस्तावित बिहार...

अयोध्या जा रहे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में लिया

बाराबंकी। अयोध्या में किसानों से मिलने जा रहे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में ले...

त्रिवेंद्र की कोशिश पर पार्टी ने फेरा पानी

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अनिच्छा के बावजूद भाजपा संगठन ने जिस तरह से रुड़की के विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन...

कांग्रेस के असंतुष्टों की मंशा पर उठते सवालों के जवाब भी जरूरी हैं

बगावती तेवर में सता की लालसा है। सत्ता का वियोग है। जिन्हे निशाने पर लिया गया है वे भी लोकतांत्रिक नहीं हैं। जनता...

नई दिल्ली। राहुल गांधी को अध्यक्ष पद संभालने के लिए और अधिक समय देने की वजह से ही एक बार फिर से सोनिया गांधी अंतरिम अध्यक्ष बन गई हैं। हालांकि, इस फैसले का किसी ने कोई विरोध तो नहीं किया, लेकिन जिस तरह से पार्टी में बदलाव को लेकर खुलकर बात करने वाले कपिल सिब्बल और गुलाम नबी जैसे नेताओं ने राहुल के ट्वीट का विरोध किया, उससे साफ हो गया है कि कांग्रेस में सबकुछ ठीक नहीं है और अब लोगों को पार्टी चलाने के वर्तमान तरीका पसंद भी नहीं आ रहा है। कांग्रेस के अनेक नेताओं ने कहना शुरू कर दिया है कि पार्टी पहले ही रसातल में पहुंच चुकी है और अगर जल्द कोशिश नहीं हुईं तो पार्टी को उबारना मुश्किल हो जाएगा।

नया अध्यक्ष तय करने के लिए कांग्रेस कार्यसमिति की 7 घंटे चली मीटिंग में कोई भी फैसला नहीं हो सका। सोनिया गांधी ने बैठक शुरू होते ही अंतरिम अध्यक्ष पद छोड़ने की इच्छा जाहिर की, लेकिन फिलहाल वह यह जिम्मेदारी संभालती रहेंगी। एक बार फिर नए अध्यक्ष का चयन 6 महीने के भीतर करने की बात कही गई है। पार्टी में बदलाव की मांग को लेकर चिट्ठी लिखने वालों पर सोनिया ने कहा कि आगे बढ़ते हैं, जिन्होंने चिट्ठी लिखी, उनके लिए मेरे मन में कोई दुर्भावना नहीं है। कांग्रेस नेता पीएल पूनिया ने बताया कि गुलाम नबी आजाद, मुकुल वासनिक और आनंद शर्मा ने लिखित में यह बात कही है कि पार्टी लीडरशिप को लेकर कोई विवाद नहीं है। पार्टी में विचारों को सामने रखने की आजादी है, लेकिन इस पर चर्चा पार्टी फोरम में होनी चाहिए, ना कि पब्लिक डोमेन में।

लेकिन इस बैठक में पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोनिया को भेजी गई नेताओं की चिट्ठी की टाइमिंग पर सवाल उठाए। राहुल ने आरोप लगाया कि पार्टी नेताओं ने यह सब भाजपा की मिलीभगत से किया। राहुल के इस बयान के तत्काल बाद उनका विरोध शुरू हो गया। विरोध करने वालों में सबसे आगे थे गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल। हालांकि बाद में कांग्रेस ने कहा कि राहुल ने ऐसा नहीं बोला था। इसके बाद सिब्बल ने अपना ट्वीट और गुलाम नबी आजाद ने अपना बयान वापस ले लिया। दरअसल, करीब 15 दिन पहले पार्टी के 23 नेताओं ने सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखकर कहा था कि भाजपा लगातार आगे बढ़ रही है। पिछले चुनावों में युवाओं ने डटकर नरेंद्र मोदी को वोट दिए। कांग्रेस में लीडरशिप फुल टाइम होनी चाहिए और उसका असर भी दिखना चाहिए।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

समीक्षा के बहाने ‘अपने मन की’ करने की तैयारी में त्रिवेंद्र

खराब प्रदर्शन के आधार पर नापसंद मंत्रियों को हटाएंगे और अपनी पसंद के नेताओं को सरकार में लाएंगे

पहले दौर में हुड्‌डा का दांव योगेश्वर दत्त पर भारी

चंडीगढ़। विधानसभा चुनाव के ठीक एक साल बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा आमने-सामने हैं। बरोदा...

हरियाणा की बेटी ने फतह की उत्तराखंड की सबसे ख़तरनाक चोटी रुदुगैरा

विश्व विख्यात पर्वतारोही अनीता कुंडू ने उत्तराखंड में स्थित रुदुगैरा को फतह कर लिया। उनका ये अभियान प्रधानमंत्री और खेल मंत्री...

हाथरस से निकल सकता है कांग्रेस के लिए लखनऊ का रास्ता

लखनऊ। हाथरस कांड कांग्रेस उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को पुनर्जीवन देने के लिए बड़ा मुद्दा बन सकता है, खासकर सपा और...

एशियाई लीडरों की तरह ट्रंप भी कर रहे है इनकम टैक्स की चोरी?

संजीव पांडेय अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लैटिन अमेरिकी और एशियाई लीडरों की कतार में शामिल हो रहे हैं।...