Tuesday, December 1, 2020

नीतीश कुमार आखिर क्यों नाराज हैं चिराग पासवान से ?

Must read

दो नेताओं के बीच घूमती बिहार की दलित राजनीति

संजीव पांडेय बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने खेमा बदल लिया है। इस साल प्रस्तावित बिहार...

अयोध्या जा रहे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में लिया

बाराबंकी। अयोध्या में किसानों से मिलने जा रहे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में ले...

त्रिवेंद्र की कोशिश पर पार्टी ने फेरा पानी

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अनिच्छा के बावजूद भाजपा संगठन ने जिस तरह से रुड़की के विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन...

कांग्रेस के असंतुष्टों की मंशा पर उठते सवालों के जवाब भी जरूरी हैं

बगावती तेवर में सता की लालसा है। सत्ता का वियोग है। जिन्हे निशाने पर लिया गया है वे भी लोकतांत्रिक नहीं हैं। जनता...

संजीव पांडेय

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और एनडीए गठबंधन में एक और भागीदार रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान के बीच तनाव खासा बढ़ गया है। दोनों दलों के बीच राजनीतिक ब्यानबाजी तेज हो  गई है। नीतीश कुमार चिराग पासवान की पार्टी लोकजनशक्ति पार्टी को चुनावी गठबंधन में 2015 के विधानसभा चुनावों के तर्ज पर सीट दिए जाने के पक्ष में नहीं है। उन्होने चिराग पासवान को बैलेंस करने के लिए जीतन राम मांझी को एनडीए के खेमे में लाने का फैसला लिया है। उधर नाराज चिराग पासवान पूरी तरह से नीतीश से दो-दो हाथ करने को तैयार है। चिराग नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड के उम्मीदवारों के खिलाफ उम्मीदवार उतारने की तैयारी में है। आखिर दोनों के बीच इस संघर्ष के कारण क्या है ? महज सत्ता में हिस्सेदारी ही दोनों के बीच संघर्ष के काऱण है? या कारण कुछ और भी है? इसकी पडताल जरूरी है।

नीतीश कुमार और रामविलास पासवान के बीच राजनीति तनाव एक सामान्य राजनीतिक तनाव नहीं है। इसके पीछे बिहार का जातीए ताना-बाना भी जिम्मेवार है। नीतीश कुमार कुर्मी जाति से संबंधित है। रामविलास पासवान दुसाध जाति से संबंधित है। ये दोनों जातियों के बीच बिहार के मगध इलाके में लंबे समय से तनाव रहा है। इस तनाव के कारण रहे है। ब्रिटिश राज में पासवान जाति जमींदारों के लिए टैक्स कलेक्शन का काम करती थी। गांवो में चौकीदारी का काम भी पासवानों के पास था। मगध के इलाके में भी जमींदारों के टैक्स कलेक्शन का काम पासवान ही करते थे। जमींदारों के नजदीक होने के कारण पासवान जाति का तनाव काश्तकारों से हो जाता था। बिहार के मगध इलाके में कुर्मी काश्तकारों की संख्या अच्छी है। हालांकि पासवान जाति का जातीए तनाव ग्रामीण इलाको में यादव जाति से भी रहा है। मगध के कई जिलों में पासवान और यादवों के बीच टकराव रहा है। यही नहीं नक्सली संगठनों में भी पासवान और यादव कैडरों के बीच तनाव रहा है। कई नेताओं की हत्या इन जातियों के तनाव कारण हुई है। 2005 में गया के पूर्व सांसद राजेश कुमार की हत्या भी जातीए तनाव का परिणाम था।

नीतीश कुमार नालंदा जिले से संबंधित है। नालंदा जिलें में पासवान और कुर्मी जाति के बीच लंबे समय से तनाव रहा है। नालंदा जिले के हरनौत विधानसभा इलाके में  बिहार का मशहूर जातीए नरसंहार बेलछी कांड हुआ था। इस कांड में अभियुक्त कुर्मी जाति से संबंधित थे। जबकि नरसंहार के शिकार पासवान जाति के लोग हुए थे। इस हत्याकांड ने बिहार में मजबूत होती पिछड़ी जातियां और दलित जातियों के बीच उभरते तनाव के साफ संकेत दिए थे। बेलछी कांड उस दौर में हुआ था जब बिहार में जेपी आंदोलन के बाद गैर कांग्रेसी सरकार बनी थी। बिहार में मुख्यमंत्री पद पर अति पिछड़ी जाति के कर्पूरी ठाकुर विराजमान थे। बिहार की राजनीति में नीतीश कुमार, लालू यादव और रामविलास पासवान अपनी शुरूआत कर चुके ते।

बेलछी कांड के दो-तीन साल पहले ही नीतीश कुमार, रामविलास पासवान और लालू यादव की राजनीति शुरू हो चुकी थी। तीनों की राजनीतिक धारा एक थी। तीनों समाजवादी विचारधारा से निकले हुए युवा नेता थे। जयप्रकाश नारायण के आंदोलन ने इनकी पहचान बनायी थी। हालांकि बिहार की राजनीति के तासीर के मुताबिक तीनों की समाजवादी विचारधारा में जातिए प्रभाव हावी रहा। दिलचस्प स्थिति यह भी है कि तीनों नेताओं की जातियों में आपसी संबंध काफी खराब है। बिहार के अंदर पासवान, यादव और कुर्मी जाति की आपस में एक दूसरे से एकदम नहीं पटती है। यादव, कुर्मी और पासवान तीनों जातियों के बीच ग्रामीण इलाकों में लंबे समय से संघर्ष है। 1990 के बाद गैर कांग्रेसवाद के दौर में इन तीनों जातियों का संघर्ष सत्ता के गलियारो में जमकर बढ़ा। संसाधनों पर कब्जे के लिए तीनों जातियों के बीच संघर्ष हुआ। नीचले स्तर पर ग्राम पंचायत से लेकर ब्लॉक प्रमुख तक के चुनावों में इन जातियों के बीच संघर्ष देखा गया। ये संघर्ष राजधानी पटना में सत्ता के शीर्ष पर बैठने के लिए तो लगातार नजर आया है।  इस सत्ता संघर्ष का एक मुख्य कारण तीनों जातियों का अपने-अपने वर्ग में खासा मजबूत होना है। ये मजबूती सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक रूप से नजर आती है। पासवान दलितों मे सबसे ज्यादा राजनीतिक और आर्थिक रूप से मजबूत है। कुर्मी पिछड़ों में सबसे ज्यादा आर्थिक रूप से संपन्न है। वहीं यादव पिछड़ों में संख्या बल होने के कारण राजनीतिक रूप से खासे मजबूत है। बिहार में कुर्मी जाति को हमेशा यादवों के आगे निकलने का डर रहा है। कुर्मी जाति को यादवों से यह भय रहा है कि यादव कहीं नौकरियों समेत तमाम दूसरे आर्थिक संसाधनों पर कब्जे के मामले में कहीं उनसे आगे न निकल जाए। यादवों को सत्ता के शीर्ष से हटाने के लिए कुर्मी जाति ने बिहार में राजनीतिक मोर्चे पर अगड़ों से गठबंधन किया। नीतीश कुमार का भाजपा से गठबंधन इसी रणनीति का परिणाम था। उधर पासवान जाति के बढ़ते राजनीतिक हैसियत से कुर्मी और यादव दोनों पिछड़ी जातियां शुरू से ही भयभीत रही है। दरअसल बिहार में सामाजिक न्याय के नाम पर हुए सत्ता परिवर्तन के बाद सत्ता की मलाई खाने के लिए तीनों जातियों में खासा संघर्ष रहा है। गौरतलब है कि बिहार में सामाजिक न्याय के नारे पर 1990 में हुए सत्ता परिवर्तन के बाद बिहार मुख्यमंत्री पद पर यादव और कुर्मी जाति के नेता ही विराजमान रहे है। इन दोनों जातियों के मुख्यमंत्री बनने के बाद पासवान जाति की लालसा है कि एक बार सत्ता के शीर्ष पर उनकी जाति के नेता भी पहुंचे।

नीतीश कुमार पर गंभीर आरोप है कि बिहार में उनके मुख्यमंत्री बनने के बाद राजनीतिक रूप से मजबूत दो जातियां यादव और पासवान का खासा उत्पीड़न किया गया। लालू यादव की पार्टी राजद ने नीतीश कुमार पर यादव जाति का उत्पीड़न का आऱोप कई बार लगाया। रामविलास पासवान की पार्टी लोजपा ने भी नीतीश कुमार पर पासवान जाति से भेदभाव करने का आऱोप लगाया। 2010 के विधानसभा चुनाव में रामविलास पासवान और लालू यादव के बीच चुनावी समझौता हुआ था। यह बिहार में यादव-पासवान का गठजोड़ बनाने का एक प्रयास था, जो सफल नहीं हो पाया। लेकिन गठजोड़ का एक कारण यह भी था कि दोनों जातियों को नीतीश राज में अपना उत्पीड़न नजर आ रहा था। नीतीश कुमार के खिलाफ लगाए गए आरोपों मे दम नजर आता है। नीतीश कुमार ने यादवों को राजनीतिक रूप से हाशिए पर लाने के लिए अति पिछड़ा कार्ड खेला । नीतीश कुमार ने पासवानों को राजनीतिक रूप से हाशिए पर लाने के लिए महादलित कार्ड खेल दिया। आरोप तो यह भी लगाया जाता है कि बतौर रेल मंत्री नीतीश कुमार पूर्व रेल मंत्री रामविलास पासवान के खिलाफ कुछ मामलों की जांच चाहते थे। लेकिन पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी ने नीतीश कुमार को इस तरह के कार्य करने से मना कर दिया था। 

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

समीक्षा के बहाने ‘अपने मन की’ करने की तैयारी में त्रिवेंद्र

खराब प्रदर्शन के आधार पर नापसंद मंत्रियों को हटाएंगे और अपनी पसंद के नेताओं को सरकार में लाएंगे

पहले दौर में हुड्‌डा का दांव योगेश्वर दत्त पर भारी

चंडीगढ़। विधानसभा चुनाव के ठीक एक साल बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा आमने-सामने हैं। बरोदा...

हरियाणा की बेटी ने फतह की उत्तराखंड की सबसे ख़तरनाक चोटी रुदुगैरा

विश्व विख्यात पर्वतारोही अनीता कुंडू ने उत्तराखंड में स्थित रुदुगैरा को फतह कर लिया। उनका ये अभियान प्रधानमंत्री और खेल मंत्री...

हाथरस से निकल सकता है कांग्रेस के लिए लखनऊ का रास्ता

लखनऊ। हाथरस कांड कांग्रेस उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को पुनर्जीवन देने के लिए बड़ा मुद्दा बन सकता है, खासकर सपा और...

एशियाई लीडरों की तरह ट्रंप भी कर रहे है इनकम टैक्स की चोरी?

संजीव पांडेय अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लैटिन अमेरिकी और एशियाई लीडरों की कतार में शामिल हो रहे हैं।...