Thursday, October 29, 2020

किसानों का वोट लेने वाले छोटे दल उनको दे रहे धोखा

Must read

दो नेताओं के बीच घूमती बिहार की दलित राजनीति

संजीव पांडेय बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने खेमा बदल लिया है। इस साल प्रस्तावित बिहार...

अयोध्या जा रहे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में लिया

बाराबंकी। अयोध्या में किसानों से मिलने जा रहे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में ले...

त्रिवेंद्र की कोशिश पर पार्टी ने फेरा पानी

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अनिच्छा के बावजूद भाजपा संगठन ने जिस तरह से रुड़की के विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन...

कांग्रेस के असंतुष्टों की मंशा पर उठते सवालों के जवाब भी जरूरी हैं

बगावती तेवर में सता की लालसा है। सत्ता का वियोग है। जिन्हे निशाने पर लिया गया है वे भी लोकतांत्रिक नहीं हैं। जनता...

संजीव पांडेय

केंद्र सरकार आपदा को अवसर में बदल रही है। किसानी से लेकर एयरपोर्ट, रेलवे औऱ अन्य प्राकृतिक संसाधन कारपोरेट घरानों को सौंप रही है। क्योंकि सरकार को लगता है कि आपदा काल में संगठित विरोध नहीं होगा और केंद्र सरकार अपने मंसूबे में सफल हो जाएगी। लेकिन हरियाणा के किसानों ने हंगामा खडा कर केंद्र सरकार के मंसूबों को चुनौती दी है। हरियाणा के कुरुक्षेत्र में किसानों ने केंद्र सरकार के तीन अध्यादेशों के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया है। प्रदर्शन से हरियाणा की भाजपा सरकार घबरायी हुई है। किसानों से बातचीत के लिए कमेटी बनायी गई है। खुद भाजपा के दो सांसदों विजेंद्र सिंह और धर्मवीर ने किसानों पर हुए लाठीचार्ज का विरोध किया है। दोनों सांसदों को किसानों की नाराजगी की कीमत की जानकारी है। लेकिन, दिलचस्प बात यह है कि पंजाब और हरियाणा में किसानों के हितों के चैंपियन होने का दावा करने वाले दो क्षेत्रीए दल किसान विरोधी अध्यादेश पर सिर्फ ब्यानों तक सीमित है। सत्ता की भागीदारी किसानों के हितों के लिए छोड़ने को तैयार नहीं है।

भाजपा की सोच शुरू से ही किसान विरोधी रही है। इसलिए केंद्र सरकार के किसान विरोधी तीन अध्यादेशों पर कोई हैरानी लोगों को नहीं हुई। लेकिन किसानों का वोट लेकर राजनीति करने वाले राजनीतिक दलों को क्या हो गया? अकाली दल और जनानायक जनता पार्टी किसान विरोधी अध्यादेशों का विरोध क्यों नहीं कर रहे हैं? कोरोना काल में किसानों की चैंपियन  इन दो पार्टियों ने किसानों को धोखा दिया है। किसानों के वोट से इनकी राजनीति चलती है। किसानों के वोट के कारण ही ये भाजपा के साथ सत्ता के भागीदार बन गए है। केंद्र में सता में स्थापित एनडीए गठबंधन की सरकार में अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल मंत्री है। वो चुनाव किसानों के वोट से जीती है। हरियाणा में राज्य में काबिज एनडीए गठबंधन की सरकार में जननायक जनता पार्टी के दुष्यंत चौटाला मंत्री है। उनकी पार्टी हरियाणा में गठबंधन सरकार में शामिल किसानों के वोट के कारण ही हुई। हरियाणा और पंजाब में चौटाला परिवार और बादल परिवार की राजनीति ही किसानों के वोट से चलती है। कुरूक्षेत्र मे किसानों पर हुए लाठी चार्ज से नाराज किसानों ने दुष्यंत चौटाला के सिरसा आवास का घेराव किया।

अकाली दल ने पंजाब में किसानों को धोखा दिया है। जननायक जनता पार्टी हरियाणा के किसानों को धोखा दे रही है। केंद्र सरकार के किसान विरोधी अध्यादेश पर सुखबीर बादल और दुष्यंत चौटाला चुप है। संसद के आने वाले सत्र में अध्यादेश बिल के रूप में पारित हो सकता है। अध्यादेशों पर अकाली दल दवारा केंद्र सरकार का खुलकर विरोध न करने का कारण लोगो को समझ में आ रहा है। दुष्यंत चौटाला की चुप्पी का कारण भी लोगों को समझ मे आ रहा है।  दरअसल पंजाब में अकाली दल सत्ता से बाहर है। वैसे में अकाली दल केंद्र सरकार का मंत्री पद नहीं खोना चाहता है। वहीं जननायक जनता पार्टी भी काफी मुश्किल से सता में भागीदार बनी है। दुष्यंत चौटाला राज्य में मंत्री पद खोना नहीं चाहते है। दुष्यंत चौटाला महत्वपूर्ण विभागों के मंत्री है।  दोनों राजनीतिक दलों के नेताओं को केंद्र सरकार की जांच एजेंसियों का भय भी सताता रहता है। दिलचस्प बात है कि पंजाब की कांग्रेस सरकार ने केंद्र सरकार के अध्यादेशों के खिलाफ पंजाब विधानसभा में प्रस्ताव भी पारित कर दिया।

पंजाब और हरियाणा की अर्थव्यवस्था का आधार खेती है। दोनों राज्यों के किसानों ने देश को कृषि क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आत्मनिर्भर भारत की बात अब कर रहे है। इन दो राज्यों के किसानों ने देश को खेती के क्षेत्र में चार दशक पहले आत्मनिर्भर बना दिया। उसके बावजूद किसानों के साथ धोखा किया जा रहा है। केंद्र सरकार ने द फारमर्स प्रोडयूस ट्रेड एंड कॉमर्स आर्डिनेंस, द इंसेसिएल कोमोडोटी (अमेडमेंट) आर्डिनेंस और द फारमर्स एग्रीमेंट ऑन प्राइज एश्योरेंस फार्म सर्विसेस आर्डिनेंस को मंजूरी देकर किसानों को कमर तोड़ने की योजना बनायी है। केंद्र सरकार देश के कृषि क्षेत्र भी रेल, एयरपोर्ट और खदानों की तरह कारपोरेट घरानों को सौंपना चाहती है। केंद्र सरकार के अध्यादेश के बाद कुछ कारपोरेट घराने पंजाब और हरियाणा में कारपोरेट खेती के क्षेत्र में आने की तैयारी में लग गए है।  

केंद्र सरकार के तीन अध्यादेशों का गंभीर प्रभाव किसानों पर यह पड़ेगा और पंजाब औऱ हरियाणा की व्यवस्थित कृषि मंडियां तबाह हो जाएंगी। इन मंडियों में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर हजारों करोड़ रुपये की फसलों की खरीद होती है। नए अध्यादेश के बाद इन मंडियों की स्थिति खराब हो जाएगी। किसानों से सरकार नियंत्रित मंडियों में खरीद रूक जाएगी। सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य भी खत्म करने की तैयारी में है। इससे किसान तबाह हो जाएगें। भाजपा लंबे समय से कारपोरेट खेती की समर्थक रही है। इसे शांता कुमार कमेटी की रिपोर्ट से समझा जा सकता है। 2015 में आयी कमेटी की रिपोर्ट में पंजाब, हरियाणा, मध्य प्रदेश, छतीसगढ़, उड़ीसा, आंध्र प्रदेश में फसलों की खरीद का काम भारतीय खाद निगम की जगह स्थानीय खरीद एजेंसियों को देने की सिफारिश की गई थी।

पंजाब और हरियाणा में फसलों की सरकारी खरीद बहुत ही व्यवस्थित है। इसके लिए मंडियों का एक बडा चेन पूर्ववर्ती सरकारों ने विकसित किया। किसानों से फसल खरीद एग्रीकल्चर प्रोडयूस मार्केट कमेटी में ही होती है। दोनों राज्य में मंडिया गेहूं और धान की खरीद में पूरे देश में अव्वल है। कुछ राज्यों ने पंजाब और हरियाणा का अनुकरण किया। लेकिन कई राज्य नहीं कर पाए। पंजाब और हरियाणा के मंडी  बोर्ड ग्रामीण विकास में भी अपना योगदान देते है। 2019-20 में पंजाब और हरियाणा की मंडियों में  न्यूनतम समर्थन मूल्य पर 226 लाख टन धान की खरीद की गई। दोनों राज्यों की मंडियों मे 201  लाख टन गेहूं की खरीद की गई। दोनों राज्यों की मंडियों से सरकारी एजेंसियों ने लगभग 80 हजार करोड़ रुपये की खरीद की। किसान संगठनों का कहना है कि धीरे-धीरे सरकार इन खरीद एजेंसियों को खत्म कर पूरे देश के किसान को कारपोरेट सेक्टर का हवाले करना चाहती है। 

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

समीक्षा के बहाने ‘अपने मन की’ करने की तैयारी में त्रिवेंद्र

खराब प्रदर्शन के आधार पर नापसंद मंत्रियों को हटाएंगे और अपनी पसंद के नेताओं को सरकार में लाएंगे

पहले दौर में हुड्‌डा का दांव योगेश्वर दत्त पर भारी

चंडीगढ़। विधानसभा चुनाव के ठीक एक साल बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा आमने-सामने हैं। बरोदा...

हरियाणा की बेटी ने फतह की उत्तराखंड की सबसे ख़तरनाक चोटी रुदुगैरा

विश्व विख्यात पर्वतारोही अनीता कुंडू ने उत्तराखंड में स्थित रुदुगैरा को फतह कर लिया। उनका ये अभियान प्रधानमंत्री और खेल मंत्री...

हाथरस से निकल सकता है कांग्रेस के लिए लखनऊ का रास्ता

लखनऊ। हाथरस कांड कांग्रेस उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को पुनर्जीवन देने के लिए बड़ा मुद्दा बन सकता है, खासकर सपा और...

एशियाई लीडरों की तरह ट्रंप भी कर रहे है इनकम टैक्स की चोरी?

संजीव पांडेय अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लैटिन अमेरिकी और एशियाई लीडरों की कतार में शामिल हो रहे हैं।...