Sunday, March 7, 2021

टिकैत के आंसू क्या राजनीति का टर्निंग प्वाइंट है?

Must read

दो नेताओं के बीच घूमती बिहार की दलित राजनीति

संजीव पांडेय बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने खेमा बदल लिया है। इस साल प्रस्तावित बिहार...

अयोध्या जा रहे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में लिया

बाराबंकी। अयोध्या में किसानों से मिलने जा रहे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को बाराबंकी में हिरासत में ले...

त्रिवेंद्र की कोशिश पर पार्टी ने फेरा पानी

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अनिच्छा के बावजूद भाजपा संगठन ने जिस तरह से रुड़की के विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन...

कांग्रेस के असंतुष्टों की मंशा पर उठते सवालों के जवाब भी जरूरी हैं

बगावती तेवर में सता की लालसा है। सत्ता का वियोग है। जिन्हे निशाने पर लिया गया है वे भी लोकतांत्रिक नहीं हैं। जनता...

नई दिल्ली। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत के आंसू आज बहस का विषय बन गए हैं। टिकैत रोए क्यों? इसका जवाब टिकैत के पास भी नहीं हैं। लेकिन हमारे राजनेताओं ने इन आंसुओं में अपने भविष्य की तस्वीर को देखना शुरू कर दिया है। विपक्ष तो इन आंसुओं से इतना उत्साहित है कि उसने पहले तो इन्हें किसान आंदोलन का टर्निंग प्वाइंट बताया और अब तो ये भारतीय राजनीति का टर्निंग प्वाइंट कहे जाने लगे हैं। वहीं भाजपा इन आंसुओं को नौटंकी करार दे रही है। सरकार का समर्थक मीडिया लगातार ही इन आंसुओं पर अंगुली उठा रहा है, वहीं सरकार विरोधी मीडिया इन आंसुओं को महत्व देने के लिए प्रधानमंत्री मोदी के आंसुओं से इनकी तुलना कर रहा है। कुल मिलाकर अब चर्चा के केंद्र में ये आंसू आ गए हैं।

आंसू आना एक सामान्य भावनात्मक प्रतिक्रिया है, लेकिन राजनीति में बहुत महत्व रखते हैं। जब राहुल गांधी को कांग्रेस में पहली बार उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी मिली थी तो उन्होंने ने बताया था कि उनकी मां सारी रात रोती रही हैं। अगर रोने से राजनीति में टर्निंग प्वाइंट आ सकता है तो फिर रोना कौन सी बड़ी बात है? जनता का तो वैसे ही रो-रोकर बुरा हाल है। कोई पेट्रोल-डीजल की कीमतें को लेकर रो रहा है तो कोई बेरोजगारी व महंगाई से त्रस्त है। कई बार तो आदमी खुशी में भी रोने लगता है। अब देखते हैं कि रोने से उत्पन्न यह टर्निंग प्वाइंट किधर लेकर जाता है। विपक्ष तो इन आंसुओं इस कदर उत्साहित हुआ कि राहुल गांधी कल पूरे दिन भाषा बदल-बदलकर दिनभर ट्वीट ही करते रहे। दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी खुलकर आंदोलन के पक्ष में आ गए। सवाल यह है कि दिल्ली के सभी बॉर्डरों पर किसानों के जमावड़े से किसको सबसे अधिक दिक्कत हो रही है? जबाव आसान है – दिल्ली वालों को। लेकिन आगे चुनाव दिल्ली में नहीं यूपी और पंजाब में हैं और किसान भी इन्हीं राज्यों से संबंधित हैं। इसलिए दिल्ली के लोगों को झेलने दो दिक्कत।

अब रही बात नए कृषि कानूनों की तो इनकी व्याख्या सब अपने-अपने तरीके से कर रहे हैं। रोने वाले राकेश टिकैत इन्हीं बिलों को पहले किसानों के सपने पूरे होने वाला कह चुके हैं। शुक्रवार को दिनभर उनके बयान की न्यूजपेपर कटिंग सोशल मीडिया में वायरल रही है। कृषि विशेषज्ञ भी इन कानूनों को किसानों के हित में बता चुके हैं। लेकिन, किसानों की कुछ जायज आशंकाएं भी हैं, जिन्हें दूर करना सरकार की जिम्मेदारी है। यह कोई बड़ी मुश्किल नहीं है, लेकिन वाम राजनीति से प्रभावित किसान नेता इन कानूनों को पूरी तरह से वापस लेने की मांग कर रहे हैं। यह ऐसी मांग है, जिसे सरकार कभी नहीं मानेगी और आंदोलन जारी रहेगा। सरकार कानून को दो साल के लिए स्थगित करने का भरोसा देकर पहले ही काफी लचीला रुख दिखा चुकी है।

जहां तक राजनीति का सवाल है तो अब कृषि बिल से अधिक जोर किसानों के सम्मान पर दिया जाने लगा है। इसकी वजह स्पष्ट है कि बिल से देश के सभी किसानों का कोई लेना देना ही नहीं है। एमएसपी का सबसे अधिक फायदा हरियाणा, पंजाब और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के ही कुछ जिलों को ही मिला है। देश के बाकी हिस्सों में किसानों को एमएसपी का न तो लाभ मिला और न ही उन्हें इसकी जरूरत महसूस हुई। छत्तीसगढ़ में तो राज्य सरकार की बोनस स्कीम किसानों के लिए वरदान बनी हुई है। फिर देश के अन्य हिस्सों में होने वाली फसलों के प्रकार ऐसे हैं कि वे एमएसपी के दायरे में ही नहीं आते हैं। इसकी अन्य बड़ी वजह यह भी है कि किसानों को उनकी फसल का दाम पहले ही एमएसपी से अधिक मिल जाता है। यह इसलिए होता है क्योंकि वे अपनी फसल में रासायनिक खादों का इस्तेमाल बहुत कम करते हैं। उनका प्रति एकड़ उत्पादन भले ही कम होते हो पर मूल्य अच्छा मिलता है।

कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के लिए ये किसान राजनीतिक रूप से बहुत महत्व रखते हैं। वजह पंजाब है। दोनों ही दल इसे सिख किसानों को अपने पक्ष में करने का मौका मान रहे है, लेकिन भाजपा इसे गैर सिख वोटों को पटाने का मौका मान रही है। अकाली दल से अलग होने के बाद वैसे भी आगामी चुनाव में भाजपा ही पंजाब के गैर सिख मतदाताओं की पहली पसंद होगी। उत्तर प्रदेश में तो निश्चित ही चुनावों के वक्त कुछ अन्य मुद्दे हावी रहेंगे, जो स्थानीय स्तर पर लोगों के लिए किसान बिल की आशंकाओं से कहीं अधिक महत्व रखते हैं। इसालिए हो सकता है कि टिकैत के आंसू आज भले ही टर्निंग प्वाइंट दिख रहे हों, लेकिन इनसे भाजपा को कोई नुकसान होगा यह अनुमान लगाना जल्दबाजी ही होगी।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

टिकैत के आंसू क्या राजनीति का टर्निंग प्वाइंट है?

नई दिल्ली। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत के आंसू आज बहस का विषय बन गए हैं। टिकैत रोए क्यों?...

नवम सतत् पर्वतीय विकास शिखर सम्मेलन का उद्घाटन

देहरादून। सतत् पर्वतीय विकास शिखर सम्मेलन के वर्चुचल उद्घाटन सत्र में शुक्रवार को  उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत मुख्य अतिथि एवं...

समीक्षा के बहाने ‘अपने मन की’ करने की तैयारी में त्रिवेंद्र

खराब प्रदर्शन के आधार पर नापसंद मंत्रियों को हटाएंगे और अपनी पसंद के नेताओं को सरकार में लाएंगे

पहले दौर में हुड्‌डा का दांव योगेश्वर दत्त पर भारी

चंडीगढ़। विधानसभा चुनाव के ठीक एक साल बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा आमने-सामने हैं। बरोदा...

हरियाणा की बेटी ने फतह की उत्तराखंड की सबसे ख़तरनाक चोटी रुदुगैरा

विश्व विख्यात पर्वतारोही अनीता कुंडू ने उत्तराखंड में स्थित रुदुगैरा को फतह कर लिया। उनका ये अभियान प्रधानमंत्री और खेल मंत्री...